****आओ जीवन के किरदार में सुन्दर रंग भरे***                  💐                                    ************************************
 ** तन के पिंजरे में**
**  शिवशक्ति परमात्मा की
**  दिव्य जोत ***
  आत्मा से ही जीवन का अस्तित्व
  आत्मा बिन शरीर बन जाता है शव।।
  फिर क्यों न आत्मा को ही शक्तिशाली बनायें
  आत्मा को पमात्मा में स्थिर करके जीवन को
  सफ़ल बनाएं ।

  
**जीवन का सत्य ,
एक अनसुलझी पहेली
जीवन सत्य है
पर सत्य भी नहीं
पर जीवन क्या है
एक अनसुलझी पहेली ।।

**जीवन एक सराय
हम मुसाफ़िर माना कि सत्य है
सफ़र....बहुत लम्बा सफ़र ।।
सफ़र का आनन्द लो
खूबसूरत यादों को जीवन के
कैमरे में कैद कर लो अच्छी बात है ,
बस यही  साथ  जाना है ।
अच्छी यादें, माना कर्मों की खेती
जैसा बीज ,वैसी खेती ।

जीवन के रंगमंच पर भवनाओं का सैलाब
कर्मो का मायाजाल, ईर्ष्या, द्वेष, लोभ, स्वार्थ
जैसी भावनायें ,भवनाओं में उलझ जाना स्वभाविक
माना कि, सत्य,असत्य,के विवेक का भी बोध है।

कहता है शोध, जीवन है.....
आत्मा की शुद्धि का संयोग
आत्मा की शुद्धि स्वयं में हठयोग
कीचड़ में कमल की तरह खिलते रहना
कीचड़ में रहकर स्वयं को कीचड़
से बचाना ।
आधुनिकता का आकर्षण ,आकर्षण में रहना
परन्तु स्वयं को आकर्षण से बचाना,
बड़ी ही बेदर्द है, समाज की परम्पराएं.....

प्रकृति से मैंने देने का गुण सीखा,
देने वाला सदा, प्रसन्न और तृप्त रहता है ।
जहाँ कहीं भी निस्वार्थ सेवा होती है
मैंने उनके खजाने स्वयमेव भरते देखे है।
वृक्षों की भाँति अपनी शरण मे आये को
फल,फूल, शीतल वायु ,देते रहो...
दरिया की भाँति निरन्तर आगे बढ़ना

जीवन के सफ़र में संग तो कुछ जाना नहीं
तो क्यों ना कुछ ऐसा कर चलें कि
हमारे जाने के बाद भी हमारे कर्मों की
खुशबू हवाओं में रहे ,कुछ ऎसे चिन्ह छोड़ते चलते
हैं ,की दुनियां हमारे चिन्हों का अनुसरण करें ।
जीवन एक सराय ,हम मुसाफ़िर
जीवन को भरपूर जियो पर अच्छे और बुरे  विवेक के संग ।।।
आओ अपने किरदार में सुन्दर रंग भरे ।
स्वयं की लिये तो सभी जीते हैं ,
हम किसी और के जीने की वजह बन जाएं
किसी के काम आ जाएं ,स्वयं के जीवन को
दूसरों के लिए प्रेरणापुंज बनाएं ।










टिप्पणियाँ

  1. जीवन जीने का आनंद तभी आता है जब हम किसी के काम आए। सुंदर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  2. जी ज्योति जी लेख पढ़ने और प्रोत्साहित करने के लिये धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सुंदर और प्रेरक रचना रितु जी।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. श्वेता जी आपका धनयवाद उत्साह बढ़ाने के लिये।

      हटाएं
  4. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द" में सोमवार 31 जुलाई 2017 को लिंक की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.com आप सादर आमंत्रित हैं ,धन्यवाद! "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
  5. धन्यवाद ,ध्रुव जी मेरी लिखी रचना को पांच लिंकों के आनन्द में स्थान देने के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  6. धन्यवाद ,ध्रुव जी मेरी लिखी रचना को पांच लिंकों के आनन्द में स्थान देने के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर सीख देती लाजवाब प्रस्तुति
    बहुत ही सुन्दर..

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय सुधा जी आपका आभार रचना पढ़ने और मुझे प्रोत्साहित करने के लिये धनयवाद

      हटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

काश की वो वक्त वहीं थम जाता । हम बड़े न होते बच्चे ही रह जाते । पर क्या करें की प्रकर्ति का नियम है ,बचपन , जवानी बुढ़ापा , दुनियां यूं ही चलती रहती है । जिसने जन्म लिया है ,उसकी मृत्यु भी शास्वत सत्य है उससे मुँह नहीं मोड़ा जा सकता ये एक कड़वा सच है । हम बात कर रहे थे ,बचपन की , बचपन क्यों अच्छा लगता है । बचपन में हमें किसी से कोई वैर नहीं होता । बचपन का भोलापन ,सादगी ,हर रंग में रंग जाने की अदा भी क्या खूब होती है । मन में कोई द्वेष नहीं दो पल को लड़े रोये, फिर मस्त । कोई तेरा मेरा नहीं निष्पाप निर्द्वेष निष्कलंक मीठा प्यारा भोला बचपन । ना जाने हम क्यों बड़े हो गये , मन में कितने द्वेष पल गये बच्चे थे तो सच्चे थे , माना की अक्ल से कच्चे थे ,फिर भी बहुत ही अच्छे थे , भोलेपन से जीते थे फरेब न किसी से करते थे तितलियों संग बातें करते थे , चाँद सितारोँ में ऊँची उड़ाने भरते थे प्रेम की मीठी भाषा से सबको मोहित करते थे । बच्चे थे तो अच्छे थे । 

*****उम्मीद की किरण*****

**औकात की बात मत करना **