**कविता**

 --------------क्या आप मेरी बात से सहमत है ?
** * * एक अनपढ़ भी कविता रच सकता है
क्योंकि कविता आत्मा की आवाज है **

** कविता आत्मा की आवाज है
समाजिक समावेश के सुन्दर भाव हैं ।
कविता विचारों की सुमधुर झंकार है
कविता मात्र शब्द नही ,कोई छन्द नही।

कविता कभी समाजिक कुरीतियों के
प्रति उठने वाली आवाज है ,तो कभी
वीर,हास्य,श्रृंगार रस में बंधे शब्दों का सार है ।

कविता अन्तर्मन में उठने वाले द्वन्दों की पुकार है
कविता किसी भी भावपूर्ण मन मे उठने वाले
भावों का सार है । कविता तारीफों की मोहताज नही
कविता स्वयं ही तारीफे अन्दाज है **

टिप्पणियाँ

  1. कविता का सम्बन्ध मन से है और भावों का प्रवाह जब आता है तो सब बाँध तोड़ कर बह निकलता है .... कबीर, सूर और अनेकों अनेकों जन कवी इस बात का जीता जागता उद्धरण हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. जी दिगम्बर जी बस यही तातपर्य था मेरा
    एक बेहतरीन टिप्पणी के लिये धन्यवाद।
    आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. रितु, कविता का संबंध भावो से है यह बात सही है। लेकिन मैं इस बात से सहमत नहीं हूं कि कोई भी कविता रच सकता है। क्योंकि कविता रचने के लिए शब्दों का जो तालमेल बिठाना पड़ता है वो हर किसी के बस की बात नहीं है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सही कह रही हैं ज्योति जी ।

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

" आत्म यात्रा "

"आज और कल"

🎉🎉" शून्य का शून्य में वीलीन हो जाना 🎉🎉