* धरती पर स्वर्ग जैसा है *ऋषिकेश*


      *ऋषिकेश* यह वास्तव में देवों की धरती है
       गौ मुख से प्रवाहित ,गंगोत्री जिसका धाम ,
       अमृतमयी ,निर्मल गँगा माता को मेरा शत-शत
             प्रणाम *

        
 *  देवों की भूमि है,अमृतमयी गँगा की अमृत धारा है *
       " ये जो शहर हमारा है "
  * इसका बड़ा ही रमणीय नज़ारा है ,
 *  हिमालय की पहाड़ियों का रक्षा कवच है ,*
  *  नीलकण्ठ महादेव का वास है 
   
   * बदरीनाथ, केदारनाथ,का आशीर्वाद है,*
      लक्ष्मण झूला का भी प्रमाण है।
   * मन्दिरों में गूँजते शंखनाद हैं ।

    महात्माओं के मुख से सुनते सत्संग का प्रसाद है ।
    निर्मल,शान्त,अध्यात्म से परिपूर्ण सत्संगी वायुमंडल सारा है
   
   वास्तव में प्रकर्ति,और परमात्मा ने इसे खूब सवांरा  है
    अद्भुत अतुलनीय ,स्वर्गमयी ये *ऋषिकेश*शहर हमारा है।।
    
    

टिप्पणियाँ

  1. ऋषिकेश की पावन धरती पे जितनी बार जाओ उतना ही आनंद देती है ... आलोकिक भाव उपजने लगते हैं स्वतः ही ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. ऋषिकेश का बहुत ही सुंदर वर्णन।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सच मे ऋषिकेश में प्राकृतिक सम्पदा ,नैसर्गिक, सौंदर्य और मानसिक शांति है ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी लिखी रचना "मित्र मंडली" में लिंक की गई है http://rakeshkirachanay.blogspot.in/2017/04/15.html पर आप सादर आमंत्रित हैं ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. विविधता से परिपूर्ण भारतीय संस्कृति के अंग हमारे धार्मिक स्थल अनेकानेक विशिष्‍टताओं से परिपूर्ण हैं. ऋषिकेश की प्राकृतिक सुषमा और धार्मिक महत्व का काव्यमय वर्णन सहज,सरल और मनभावन है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. धन्यवाद ध्रुव जी और रविन्दर सिंह जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सौंदर्य और पवित्रता का जहाँ संगम होता हो वहां देवताओं का वास होता है.सुन्दर चित्रण ऋषिकेश की पावन भूमि का

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

काश की वो वक्त वहीं थम जाता । हम बड़े न होते बच्चे ही रह जाते । पर क्या करें की प्रकर्ति का नियम है ,बचपन , जवानी बुढ़ापा , दुनियां यूं ही चलती रहती है । जिसने जन्म लिया है ,उसकी मृत्यु भी शास्वत सत्य है उससे मुँह नहीं मोड़ा जा सकता ये एक कड़वा सच है । हम बात कर रहे थे ,बचपन की , बचपन क्यों अच्छा लगता है । बचपन में हमें किसी से कोई वैर नहीं होता । बचपन का भोलापन ,सादगी ,हर रंग में रंग जाने की अदा भी क्या खूब होती है । मन में कोई द्वेष नहीं दो पल को लड़े रोये, फिर मस्त । कोई तेरा मेरा नहीं निष्पाप निर्द्वेष निष्कलंक मीठा प्यारा भोला बचपन । ना जाने हम क्यों बड़े हो गये , मन में कितने द्वेष पल गये बच्चे थे तो सच्चे थे , माना की अक्ल से कच्चे थे ,फिर भी बहुत ही अच्छे थे , भोलेपन से जीते थे फरेब न किसी से करते थे तितलियों संग बातें करते थे , चाँद सितारोँ में ऊँची उड़ाने भरते थे प्रेम की मीठी भाषा से सबको मोहित करते थे । बच्चे थे तो अच्छे थे । 

*****उम्मीद की किरण*****

**औकात की बात मत करना **