💐   " गणतंत्रता का सम्मान करो "💐

  "आज हम स्वतन्त्र हैं,हमारा अपना गणतंत्र है।
 👍  गणतन्त्र हमारा हमारा महान है।"
  सविंधान की सभी धाराओं का भी महत्व है👍
  वैदिक संस्कृति का भी का सम्मान है।👍
 हाँ आज हम स्वतन्त्र हैं, पर स्वतन्त्रता का ना अपमान हो ।
       सम्भलो मेरे देशवासियों     क्योंकि  ?
आज हमारी स्वतन्त्रता असंख्य माताओं की गोद की😢
       क़ुर्बानियाँ हैं ।   जब परतंत्रता की बेड़ियों के जुल्म का
दर्द बेअंत था,   जिन्दा थे कि, साँसे चल रही थी वरना जीना
कोई झन्नुम से ना कम था ,हर वक्त सिर पर मँडराता मौत ए😢
कफ़न था और क्या-क्या कहें हँसने पर भी दर्द ऐ सितम था।
मेरे देशवासियों, मेरे बन्धुओं अपनी स्वतन्त्रता को ना
अपमानित करना ,ये स्वतन्त्रता अनमोल है।
 बलिदानों का सिलसिला बेअंत है।।😥

 छब्बीस जनवरी  भारत का गणतंत्रता दिवस।
 गणतंत्र का सहज सम्मान हो , नियमों का पालन हो।
 स्वसम्पत्ति की सुरक्षा ,त्यों स्वदेश सम्पत्ति की सुरक्षा
 सुव्यवस्था ,और स्वच्छता॥ " मेरा भारत महान"  है की
 कहने वालों !  "भारत माता का"  भी श्रृंगार करो ।
 निज भवनों के बाहर न कचरे का भण्डार करो ।🚮
 भ्रष्टाचार का अब अन्त करो ।🚰
 भारत को अपना कहने वालों ,भारत माता का सम्मान करो
अपने गणराज्य पर अभिमान करो ।
सविंधान के नियमों का सम्मान करो।

 नये युग की नयी परिभाषा 🎆🎋🎉
 नयी पीढ़ी की नयी अभिलाषा ।
 सुनहरे भविष्य की दस्तक है ये तो
 अब ना बढ़ते कदमों को रोको,
 कर्मठता और निष्ठता के बीज है बोयें
तरक़्क़ी की अब फ़सल ऊगेगी ।
उन्नत्ति के शिखर पर चढ़कर नये युग का
आगाज़ करेंगे ।भारत माता का फिर स्वर्णिम
अक्षरोँ में दुनियाँ में नाम करेंगे🎉🎊
भारत फिर से सोने की चिड़िया कहलायेगा
विश्वकौटम्बकम का सपना अब सच हो जाएगा ।।
🎎🎉🎊🎆🎇🎇🎈🎈

टिप्पणियाँ

  1. सुन्दर प्रस्तुति। गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. Jyoti ji aapko bhiगणतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं ।

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

काश की वो वक्त वहीं थम जाता । हम बड़े न होते बच्चे ही रह जाते । पर क्या करें की प्रकर्ति का नियम है ,बचपन , जवानी बुढ़ापा , दुनियां यूं ही चलती रहती है । जिसने जन्म लिया है ,उसकी मृत्यु भी शास्वत सत्य है उससे मुँह नहीं मोड़ा जा सकता ये एक कड़वा सच है । हम बात कर रहे थे ,बचपन की , बचपन क्यों अच्छा लगता है । बचपन में हमें किसी से कोई वैर नहीं होता । बचपन का भोलापन ,सादगी ,हर रंग में रंग जाने की अदा भी क्या खूब होती है । मन में कोई द्वेष नहीं दो पल को लड़े रोये, फिर मस्त । कोई तेरा मेरा नहीं निष्पाप निर्द्वेष निष्कलंक मीठा प्यारा भोला बचपन । ना जाने हम क्यों बड़े हो गये , मन में कितने द्वेष पल गये बच्चे थे तो सच्चे थे , माना की अक्ल से कच्चे थे ,फिर भी बहुत ही अच्छे थे , भोलेपन से जीते थे फरेब न किसी से करते थे तितलियों संग बातें करते थे , चाँद सितारोँ में ऊँची उड़ाने भरते थे प्रेम की मीठी भाषा से सबको मोहित करते थे । बच्चे थे तो अच्छे थे । 

*****उम्मीद की किरण*****

**औकात की बात मत करना **