संदेश

2017 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

"*वसुन्धरा**

वसुन्धरा**
जिस धरती पर मैंने जन्म लिया ,
उस धरा पर मेरा छोटा सा घर
मेरे सपनों से बड़ा ।।
बड़े -बड़े अविष्कारों की साक्षी वसुन्धरा
ओद्योगिक व्यवसायों से पनपती वसुन्धरा ।

पुकार रही है वसुन्धरा
,कराह रही है वसुन्धरा ।

देखो तुमने ये मेरा क्या हाल किया
मेरा प्राकृतिक सौन्दर्य ही बिगाड़ दिया ।

हवाओं में तुमने ज़हर भरा
में थर-थर कॉप रही हूँ वसुन्धरा
अपने ही विनाश को तुमने मेरे

दामन में फौलाद भरा
तू भूल गया है ,ऐ मानव

मैंने तुझे रहने को दी थी धरा ।
तू कर रहा है मेरे साथ जुल्म बड़ा

मेरे सीने में दौड़ा -दौड़ा कर पहिया
मेरा आँचल छलनी किया ।

मै हूँ तुम्हारी वसुन्धरा
मेरा जीवन फिर से कर दो हरा -भरा

उन्नत्ति के नाम पर धरा पर है प्रदूषण भरा
जरा सम्भल कर ऐ मानव प्राकृतिक साधनों का तू कर उपयोग जरा

**औकात की बात मत करना **

** एक गाँव मे एक सेठ रहता था ,उसका अपने गाँव में बड़ा ही नाम था कहते हैं ,वह सेठ बहुत बड़ा दानी भी था ।

कोई भी शुभ दिन हो ,कोई त्यौहार हो ,वह सेठ गरीबों को भोजन कराता, भोजन कराने के बाद वह सेठ सबको दक्षिणा भी देता , और कोई जो  कुछ माँगता उसे यथासम्भव देता। सब लोग सेठ के सामने नतमस्तक होते और जय-जय हो सेठ जी की जय हो जय हो कहते ।

 परन्तु उनमें से एक बूढ़ा फ़कीर हाथ जोड़ कर कहता खुश रहो,सेठ जी भगवान आपको और दे ।
सेठ जी काफी समय ... उस बूढ़े फ़कीर की इस हरक़त से सोच में रहते कि बाकी सब लोग तो मेरे सामने नतमस्तक होते हैं, और जय-जयकार बोलते हैं ,और ये फ़क़ीर उल्टा मुझे ही आशीर्वाद देता है ,जैसे ये ही मुझे सब दे रहा हो।

एक दिन सेठ ने उस बूढ़े फ़कीर से पूछ ही लिया,एक बात बता

 प्रश्न :- फ़क़ीर ? तुम्हें भोजन किसने कराया ?

उत्तर:- बुढे फ़क़ीर ने कहा-- जी सेठ जी आपने ।

प्रश्न- सेठ जी ने पूछा तुम्हें पैसे किसने दिये ?

उत्तर:-बूढ़े फ़क़ीर ने कहा --सेठ जी आपने

प्रश्न :-  सेठ जी बोले तो फिर तू मेरे सामने सिर क्यों नही
झुकाता ,ना ही मेरी जय-जयकार बोलता है ,तू फ़क़ीर होकर मुझे आर्शीवाद देता है, औकात क्या है तेरी ?

बूडा …

* धरती पर स्वर्ग जैसा है *ऋषिकेश*

*ऋषिकेश* यह वास्तव में देवों की धरती है
       गौ मुख से प्रवाहित ,गंगोत्री जिसका धाम ,
       अमृतमयी ,निर्मल गँगा माता को मेरा शत-शत
             प्रणाम *

 *  देवों की भूमि है,अमृतमयी गँगा की अमृत धारा है *        " ये जो शहर हमारा है "   * इसका बड़ा ही रमणीय नज़ारा है ,  *  हिमालय की पहाड़ियों का रक्षा कवच है ,*   *  नीलकण्ठ महादेव का वास है     * बदरीनाथ, केदारनाथ,का आशीर्वाद है,*       लक्ष्मण झूला का भी प्रमाण है।    * मन्दिरों में गूँजते शंखनाद हैं ।
    महात्माओं के मुख से सुनते सत्संग का प्रसाद है ।
    निर्मल,शान्त,अध्यात्म से परिपूर्ण सत्संगी वायुमंडल सारा है    वास्तव में प्रकर्ति,और परमात्मा ने इसे खूब सवांरा  है     अद्भुत अतुलनीय ,स्वर्गमयी ये *ऋषिकेश*शहर हमारा है।।

**सुप्रभात**

सुप्रभात **
********
💐वन्दन परमात्मा ,💐
एक और नयी सुबह
नयी-नयी अभिलाषाएं
नव निर्माण को एक और क़दम
नयी पीढ़ी की नयी सोच संग ,
नव सपनों को सच करने की
नयी तरंग ,नया ढँग है ,नयी उमंग
नये इरादे, नयी सीढ़ियाँ ,
नयी दुनियाँ की ,नयी इबारत लिखने को
नयी पीढ़ी के नये क़दम
इस नयी पीढ़ी को ,
नव नूतन समाज की,
बुनियाद रखने को दो
परमात्मा तुम अपने आशीर्वाद
का संग, जीवन की सरगम
फले-फूले नव -नूतन समाज
चाहे नया रूप हो,नया-नया ढँग
सज्जनता संग , प्रग्रति के पथ पर
अग्रसर उन्नति की ऊंचाइयाँ ,छुये
मेरे देश का जन-जन ,
समृद्धि से परिपूर्ण हो मेरे देश
का कण-कण ।

**स्वास्थ्य धन**

* स्वास्थ्य यानी तन-और मन दोनों की सुदृणता *
जहाँ *शारीरिक स्वास्थ्य के लिये पौष्टिक आहार ,व्यायाम ,योगा लाभदायक है।
वैसे ही मन की स्वस्तथा के लिये मैडिटेशन,योगा ,साथ ही साथ विचारों की सकारात्मकता क्योंकि* ज़िंदगी की दौड़ में अगर जीत है तो हार भी है* मुश्किलें भी हैं ,बस हमें अपनी हार और नाकामयाबी से निराश नही होना है ,ये नही तो दूसरा रास्ता अपनाये अपने मन की सुनिए ।

    *हमारे विचार बहते हुए पानी की तरह हैं, और पानी का काम है बहते रहना रुके हुए पानी मे से दुर्गन्ध आने लगती है ।*
 *  जहाँ तन का स्वस्थ होना आवयशक है वहीं मन मस्तिष्क का स्वस्थ होना भी अनिवार्य है *
आज की भागती दौड़ती जिन्दगी में हम मन के स्वास्थ्य पर बिल्कुल भी ध्यान ही नही देते मतलब कामयाबी की सीढ़ियाँ चढ़ते- चढ़ते हम मनुष्य अपने दिमाग़ पर एक बोझ बना लेते हैं, बोझा कामयबी और काम के दवाब का ;

कामयाबी तो मिलती है धन भी बहुत कमाते हैं ,परन्तु अपना सबसे बड़ा धन अपना स्वास्थ्य बिगाड़ देते हैं, किस काम की ऐसी कामयाबी और दौलत जिसका हम सही ढंग से उपयोग भी न कर सकें।
दुनियाँ का सबसे बड़ा धन क्या है ।आम जन तो यही कहेंगे रुपया, पैसा, धन-…

💐पत्थर💐

💐 * पत्थर*💐
💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐
आज जो तस्वीर लोगों के आकर्षण
का केंद्र है, जिसे निहार लोग कारीगिरी
की तारीफ कर रहे हैं ,वह कहीं किसी राह
पर पड़ा पत्थर ही था ।
किसी की खुबसूरत सोच ने और मेहनत ने उस
पत्थर को भगवान बना दिया ।

* जिस तस्वीर को तराशने में जितना
* अधिक समय लगता है ,वह तस्वीर उतनी ही सुन्दर बनती है ।
पत्थर को भी मजबूत होना पड़ता है तरशने के लिये
* ना जाने कितने युग बीत जाते हैं ,तरशने की हद से गुजरने के लिए
*कर्मों के बीज बोते रहो ,
*समय आने पर ही फ़सल होगी।

बीज डालने के बाद फल आने में समय
लगता है ,समय से पहले फल की चाह करना
मतलब कच्चे फल खाने जैसा हुआ।

सफलता की चाह रखने वालों की
राहें बेशक़ आज फूलों से सजी होंगी
परन्तु उन्होंने भी एक लंबा सफ़र पत्थर सी
मुश्किल राहों पर होके गुजारा होगा ।

*अवसाद या डिप्रेशन *पर विशेष *

अवसाद या डिप्रेशन *पर विशेष *

  *क्या हुआ जो हम किसी के जैसे नहीं
  हम जैसे है , वैसे ही अच्छे हैं
 हमारी अपनी पहचान है ,क्यों हम
   किसी की पहचान जैसे बने

   " डिपरेशन" या "अवसाद"
  आखिर ये डिप्रेशन है क्या ?
क्या डिप्रेशन कोई बीमारी है ?
आज के युवाओं में डिप्रेशन एक महामारी के रूप में फ़ैल रहा है।
  डिप्रेशन  दीमक की तरह किसी भी इंसान  को अन्दर ही अन्दर खोखला कर देता है ।
डिप्रेशन है ,हमारी सोच ,किसी भी बात को सोचने के दो पहलू होते हैं ।
एक सकारात्मकता , और एक नकारात्मकता
 डिप्रेशन नकारात्मक सोच का बड़ा ही जहरीला रूप है ।,डिप्रेशन की अवस्था में इन्सान की सोच इतनी नकारात्मक हो जाती है ,कि वह इंसान अच्छी चीज में उलटा सोचने लगता है ,डिप्रेशन वाले व्यक्ति को लगता है जैसे उसके खिलाफ कोई साजिशें रच रहा है ,क्योंकि उसकी आँखों पर नकारात्मकता का चश्मा जो चढ़ा होता है।
कभी -कभी हमारा डिप्रेशन ,यानि हमारी नकारात्मक सोच इतना भयंकर रूप ले लेती है,कि डिप्रेशन वाला व्यक्ति स्वयं ही स्वयं का दुश्मन बन आत्महत्या तक कर लेता है ।

अवसाद की स्थिति आने ही न पायें ,इसकेलिए इस पीढ़ी को और …

"जल ही अमृत है "

"जल ही अमृत है "

जल ही जीवन है ,जल के बिना जीवन सम्भव नहीं ।
जल का संरक्षण और स्वच्छ्ता हमारा कर्तव्य है ,जल जो हमारी ही
सम्पत्ति है ,हमारा जीवन है ,जिसके बिना हम मनुष्यों का जीवन सम्भव ही नहीं फिर क्यों जल को प्रदूषित करना इसका दुरुपयोग करना जल में विष भरना ,कहाँ की समझदारी है ये ।

हम मनुष्य बहुत ही स्वार्थी हैं अपने ही उपयोग में आने वाली चीजों को में हम विष भर देते है ।

जल में गन्दगी ,वायु में अत्यधिक वाहनों द्वारा प्रदूष्ण ।
जल,वायु धरती ,जिनसे हमारा जीवन है ,हम उन्ही को नष्ट कर रहे हैं ।

हम मनुष्य वास्तव में स्वार्थी हैं ।आज अपना स्वार्थ सिद्ध हुआ कल की कौन सोचता है ।

प्रकृति द्वारा प्रदत्त , सम्पदायें, वृक्ष, जल, वायु और सबसे बड़ी हमारी धरती ,जिसने हमे रहने के जगह दी और हम मनुष्यों ने इस धरती का क्या हाल कर दिया है ,धरती कराह रही ,वायु में अंधाधुन्ध प्रदूषण ,
और जल हमारी नदियाँ उसमे हम सारी गन्दगी डाल रहे है ।
परमात्मा ने हमें इतनी सुन्दर प्रकृति और मनुष्यों के जीविका के साधन दिये और हम मनुष्य अपने ही साधनों का विनाश कर रहे हैं ।
कितना नासमझ है मनुष्य दूर की नहीं सोच प…
युग परिवर्तन ने दी है दस्तक "

बहुत ही उत्तम संजोग नज़र आ रहे हैं, ये युग परिवर्तन नहीं तो
क्या है?

हमारी प्रचीन संस्कृति फिर से जागृत हो रही है ,ऋषि मुनियों का देश कहे जाने वाला भारत देश फिर से अपनी प्राचीन संस्कृति को सहर्ष अपना रहा है ।

ऋषि परम्परा जो जीवन के सत्य को बखूबी जानती है, और यही ऋषि परम्परा है जो स्वार्थ से ऊपर उठकर सर्जनहिताय काम कर सकती है ।
"युग परिवर्तन ने दस्तक दे दी है ।"


परिवर्तन तो साक्षात् दिखायी दे रहा है । लोगों का अध्यात्म की और रूचि बढ़ रही है । भरतीय युवा पीढ़ी सत्य को समझ रही है।
लोभ वृति से ऊपर उठकर सर्वजन हिताय के बारे में कदम उठाये जा रहे है ,क्योंकि देश के हित में ही अपना हित है ।
युग परिवर्तन अवश्य होगा क्योंकि अब योगी लोगों ने देश की सता की बागडोर अपने हाथ में ले ली है ।


हिन्दुत्व हिंदुस्तान की संस्कृति है "

हिन्दुत्व हिंदुस्तान की संस्कृति है  "  

        " हाँ हम हिन्दू हैं "

     हाँ हम हिन्दू हैं ,हिन्दुस्तान की धरती पर हमारा जन्म हुआ ।

       हम हिंदुस्तानी हैं ।

  हाँ हमें गर्व से है कि, हिंदुस्तान जैसी पवित्र धरती पर हम  जीवनयापन हो रहा है । अपनी मातृभूमि का व् अपनी मातृभाषा हिन्दी का और अपने हिंदुत्व धर्म की रक्षा करना हम सब हिंदुओं का  कर्तव्य है ।
हिंदुत्व धर्म भाईचारे का सन्देश देता है और उसे मानता है ।
हिन्दू धर्म विश्व कौटूम्बकम की संस्कृति वाला देश है।
 ना हम किसी धर्म का  अपमान करेंगे और ना ही  अपने धर्म का  अपमान सहेंगे ।।

🌸💐श्रद्धा और विश्वास💐💐

💐श्रद्धा और विश्वास💐

🌷 कहते हैं ,कलयुग में नाम की बड़ी महिमा है ,🌷
परमात्मा का सिर्फ नाम लेने मात्र से परमात्मा मिल जाते है ।
जिस प्रकार जब एक बच्चा अपनी माँ को पुकारता है तो माँ दौड़ी
चली आती है ।
उसी तरह हम उस परमात्मा के अंश हैं ,जब भी हम सच्चे मन से श्रद्धा और विश्वास से उसका नाम लेते हैं ,उसे पुकारते हैं तो उसे आन
आना पड़ता है ।

* परमात्मा पर विश्वास हो अटूट
श्रद्धा से दामन हो भरपूर

परमात्मा सिर्फ भाव के भूखे
प्रेम से वो स्वीकारते हैं ,फल हो
चाहें रूखे -सूखे ।

वो खुद दाता ,देवन हार ,
उसे नहीं चाहिये हमारे कीमती उपहार
श्रद्धा और विश्वास से स्वयं को कर दो उसके
चरणों में समर्पित ।

वो विश्व विधाता , हम उसकी ज्योत के अंश
परमात्मा से रहे जुड़ा हम सबका अंतर्मन

"मैं शक्ति का अवतार हूँ ' , "माहिलायें किसी एक विशेष दिवस की मोहताज नहीं"

"मैं समाज का श्रृंगार हूँ ",  " संस्कारों का प्रकाश हूँ " ममता    का द्वॉर हूँ ", "मैं सशक्त शक्ति का अवतार हूँ"

माहिलायें किसी एक दिवस की मोहताज़ नहीं, महिला दिवस तो हर रोज़ होता है कोई माने या ना माने ।

"बेटियाँ" प्रारम्भ यहाँ से होता है । बेटियाँ बचेंगी तभी तो समाज  की प्रग्रति होगी ।  आप ही बताइये क्या बेटियों के बिना समाज की उन्नति सम्भव है ? नहीं बिलकुल नहीं अगर बेटे कुलदीपक हैं ,तो बेटीयाँ कुलदेवीयां है । बेटियों के बिना कुलदीपक प्रकाशित होना असंभव है । बेटियाँ समाज की नींव है । और नींव का मजबूत होना अति आवयशक है ।क्योंकि यही बेटियां समाज को सवाँरती है। यही बेटियाँ एक महिला के रूप में ,एक माँ के रूप मे सशक्त  समाज की स्थापना करती है । इस लिये महिलाओं को सुशिक्षा से कभी दूर नहीं रखना चाहिये ,क्योंकि कल यह ही महिलायें पलना के रूप में ,अपनी शिक्षा से आने वाली पीढ़ी को सुसंस्कृत और एक सुसभ्य समाज का  निर्माण करने में योगदान करेंगी । यूँ तो आज महिलायें हर क्षेत्र में अपना लोहा मनवा चुकी हैं ,और वो कोरी तारीफों की मोहताज़ नहीं । हमारी संस्कृ…

💐इस होली लायी हूँ" मैं" इन्सानियत के रंग💐

रंगों के इस मौसम में ,कुछ रंग मैं भी लायी हूँ।
  फाल्गुनी बहार में ,कुछ रंग मीठास के लायी हूँ" मैं "

  धरती की हरियाली भी है, आसमानी नीला भी है ,
   इंद्रधनुषी रंगों की सतरंगी फुहार लायी हूँ" मैं"

    इंसानियत के रंग में रंगने आज सबको आयी हूँ,"मैं"
    निस्वार्थ प्रेम की मीठी मिश्री सबको खिलाने आयी हूँ "मैं"

     ईर्ष्या,द्वेष, के भद्दे रंगों को सदा के लिए  मिटाने आयी हूँ          इस होली इंसानियत के रंग लायी हूँ "मैं"

      पुष्पों के मौसम में ,दिलों को  प्रफुल्लित करने आयी हूँ           "मै"
       सब धर्मों से ऊपर उठकर, इनसानियत का धर्म निभाने          आयी हूँ "मैं",होली के त्यौहार में कुछ रंग प्रेम के लायी हूँ         "मैं  "   निर्मल मन से,स्वच्छता के रंगों की बरसात करने          आयी हूँ " मैं" स्वच्छ्ता के हर रंग में रंगने आयी हूँ "मैं"

💐💐मोहब्बतों का दिया 💐

💐💐मोहब्बतों का दिया 💐💐

मोहब्बतों के दिये जला कर ,रोशन कर रहा हूँ संसार
नफरतों की आँधियों से मेरी लौ डग मगा रही है
मैं हर बार आँधियों से मोहब्बतों की लौ बचा लेता हूँ।

बुझने नहीं देता मैं दिया मोहब्बत का
दिन पर दिन बड़ रहा है, मेरा प्यारा सा कारोबार ।

एक लौ से दूसरी लौ जल रही है अब चल पड़ी है
मोहब्बत की फुहार ,अपनत्व के रंग में रंगा है संसार।
मेरे खाव्बों की कश्ती ,में सपनों की बहार ।

हर सपना बन के आया उपहार
मेरे सपनों का संसार ,मोहब्बतों के उपहार
कर रहा हूँ आजकल मैं मोहब्बतों का इकरार
मेरा आशीयाना की बात ही निराली है,
यहाँ हर दिन है ,होली, दीपावली ।

👍कुछ तो विशेषता अवश्य है, माननीय प्रधानमंत्री ,मोदी जी मे👍

हमारे देश के माननीय, प्रधानमंत्री में कुछ तो विशेषता          अवश्य है।      माननीय प्रधानमंत्री ,मोदी जी जब भाषण देते है , तो ऐसा लगता है की वो जो भी बोल रहे हैं, दिल की गहराइयों से बोल रहे हैं। और उनके द्वारा कही गयी बात सीधा मन मस्तिक्ष पर असर करती है ,ऐसा लगता है जैसे वो हमारे ही दिल की बात कह रहे हों ।  कभी -कभी तो मुझे लगता है ,कि हमारे माननीय प्रधानमंत्री मोदी जी के पास कोई.......        1. जादुई शक्ति है,           2.वह शक्ति ,क्या वाकई ,सच्चाई की है,                               3. ईमानदार देशभक्त की है।                               4. कहीं वो कोई जादूगर तो नहीं या                                    5. उन्हें कोई सम्मोहन विद्या तो नहीं आती।  या फिर वो वास्तव में एक 6.निस्वार्थी, कर्मठ, नेता हैं
देश , प्रदेश,  नेता और राजनीति ।
 👍जिस प्रकार हमारे परिवार के मुखिया अगर निष् पक्ष छवि वाला हो तो  , हो तो वह परिवार नि सन्देह तरककी करता है।

 उसी तरह अगर देश के नेता स्वार्थवाद से ऊपर उठकर देश हित में ही अपना सहयोग देंते तो देश की उन्नति अवश्य होती है और देश तरक्कि की सीढ़िया अवश्य चढ़ता है ।

चुनाव से पहले नेताओं के भाषण, सुनते ही बनते हैं नया जोश नई उमंग ,बड़े-बड़े वादे, हम अपने प्रदेश के लिये ये करे -गे वो करेंगे इतने साल देश का बुरा हाल ,आप अमुक नेता को चुनिये तब देखिये देश सुधर जाएगा अब दूर होगा भ्रष्टाचार ,गरीबों के लिये घर  अब कोई युवा बेरोजगार नहीं होगा जाने और क्या क्या बड़े-बड़े वादे ........😊😊

चुनाव से पहले हाथ जोड़कर एक -एक वोट की भीख मांगी जाती है ।
चुनाव के बाद जब कोई भी नेता जीत जाता है, तो उसके तो दोनो हाथ घी में...........और वोटर बन जाते हैं भीगी बिल्ली 😢😢
अब बेचारे वोटर बस इस इंतजार में फिर से पूरे पाँच साल बीता देते हैं कि नेता जी कब हमारी मागें पूरी करेगें ,कब हमारे प्रदेश, और देश का विकास होगा ।

नेता बनना कोई साधारण काम नहीं है ,बहुत जिम्मेवारी का काम है जी नेता…

👍 दौड़ 👍

आधूनिकता की दौड़ में मैं पीछे रह गया
संस्कार बिक रहे थे, मैं ना बिका पिछड़ा रह गया

ना नाम कमाने का शौक है
ना दाम कमाने का शौक है।

मन में जो संकल्प आते हैं
उन्हें पूरा कर गुजरने का जनून है।

जीवन सफ़ल हो अपना
बस छोटा सा सपना है अपना।

सपने कब हुए अपने हैं
नीँद ख़ुली तो टूट गये जो सपने थे।

जागती आँखों से जो देखे थे जो सपने
कर्मों की खेती से लहलहाने लगे वो सपने।

मेरा कहाँ वजूत इतना की मैं कुछ कर जाऊं
ऊप र वाला जो कराता है ,मैं वो करता रहता हूँ ।
💐 शिवरात्रि💐
   💐 देवों के देव महादेव 💐

 शिव की महिमा अनन्त है। शिव अनादि है ,शिव वो महान दिव्य शक्ति है ,जिसके हम सब अंश है  । भोलेनाथ ,शिव ही हैं जिन्होंने संसार को जहरीले विष से होने वाले विनाश से बचाने के लिये विष को स्वयं के कंठ में धारण कर लिया था ।संसार के समस्त जहरीले जीव ,पदार्थ ,परमात्मा शिव ने स्वयं में समाहित किये, संसार कल्याणार्थ ।
 परमात्मा को हम मनुष्यों से कुछ नहीं चाहिए। वो तो स्वयं दाता है। उसी से लेकर उसे देना ......
वो दिव्य प्रकाश जो कई करोड़ सूर्यों के प्रकाश से भी कई अधिक गुना प्रकाश से परिपूर्ण है ,वो दिव्य अलौकिक शक्ति है "शिव महादेव"
ब्रह्मा, विष्णु, महेश , ब्रह्मा जी से संसार की उत्पत्ति हुई ,भगवान विष्णु उस संसार की पालना करते हैं । और हमारे समाज में ये धारणा है कि जब-जब धरती पर पाप कर्म अपनी चरम सीमा पर पहुंच जाते हैं ,तब-तब भगवान शंकर अपना तीसरा नेत्र खोलते हैं  प्रलय आती है और पाप कर्मो का अंत होता है। यह मान्यता गलत भी नहीं है ।
शिवरात्रि के दिन कुछ लोग उपवास भी रखते है, शिवजी को प्रसन्न करने के लिये शिवलिंग पर भेलपत्री, पुष्प …

" वास्तविक सम्पत्ति" "विचारों की संम्पत्ति"

💐💐💐💐💐💐💐💐
            💐💐💐💐💐

💐"हमारे विचार हमारी संपत्ति हैं क्यों इन पर नकारात्मक विचारों का  दीमक लगाए चलो कुछ अच्छा  सोंचे  कुछ अच्छा करें "।💐

👍मेरा मुझ पर विश्वास जरूरी है ,
मेरे हाथों की लकीरों में मेरी तकदीर
सुनहरी है ।👍

☺ यूँ ही बेवज़ह भी मुस्कराया करो ,
माहौल को खुशनुमा भी बनाया करो ।☺☺

💐अपने लिये तो सभी जीते हैं,
 पर जीवन वह सफल है ,जो औरो
के जीने के लिए भी जिया जाये ।"💐


💐मौन की भाषा जो समझ
  जाते है।वो ख़ास होते हैं ।
  क्योंकि ?
  खामोशियों में ही अक्सर
  गहरे राज होते है ।
 जुबाँ से ज्यादा मौन की भाषा
  मे कशिश होती है ।💐☺


💐अगर विचार हो खूबसूरत तो सब खूबसूरत नज़र आता है वो पत्थर ही थे जिन्हें कारीगरों की खूबसूरत सोच ने ताजमहल जैसी बेमिसाल ईमारत बना दिया ।💐

💐 "उजाले मे सब इस क़दर व्यस्त थे कि
ज्योति के उजाले का कारण किसी ने नहीं
जानना चाहा, तभी ज्योति की आह से निकला
दर्द सरेआम हो गया , आँखों से अश्रु बहने लगे
काले धुयें ने हवाओं में अपना घर कर लिया
जब तक उजाला था सब खुश थे धुआँ हुआ तो सब उसे कोसने लगे "

☺☺बच्चे थे तो सच्चे थ…
💐💐वेलेंटाइन डे💐💐
          💐💐💐💐
  कल ही मेरी सहेली का फ़ोन आया था ,कह रही थी कि कल तुम अपने बच्चों पर नज़र रखना ,कल वेलेंटाइन डे है उन्हें ज्यादा इधर -उधर मत जाने देना ,जमाना बड़ा खराब है। बे फालतू मे बच्चे किसी चक्कर मे ना फंसे ।

अपनी सहेली की बात सुनकर मैं थोड़ा चिन्ता में पड़ गयी ,मैं अपनी सहेली से बोली नहीं मैं नहीं रोक पाऊँगी अपने बेटे को , उसने मुझसे वादा किया हुआ है कि वो कोई गलत काम नहीं करेगा ।  यूँ तो मुझे उस पर बहुत विश्वास है ।  पर डर लगता है ,ज़माना बड़ा ख़राब है । मैं अपनी सहेली सुनीता को बता रही थी
 मैंने सुना था ,वो कह रहा था ,हाँ-हाँ मैं कल आ रहा हूँ तुमसे मिलने तुम तैयार रहना ।
 मैं अपने  बेटे के कमरे में जब गयी,   उसे कहने की बेटा खाना तैयार है,  आ जाओ खाना खा लो ।
 और पता है ,वो क्या कह रहा था वो कह रहा था कोई नही मम्मी को मैं सम्भाल लूँगा ।

सुनीता मुझे नहीं पता मेरे बेटे के मन मैं क्या है ।कल की कल देखी जायेगी कोई उपाय निकालती हूँ की वो कल मेरी आँखों के सामने ही रहे ।

अगला दिन वेलेंटाइन डे का दिन सुबह से ही मेरे बेटे के फोन आने शुरू हो गये ,मैं भी किसी न किसी ब…

☺रुका जीवन और रुका हुआ पानी दुर्गन्ध देता है"😊

चित्र
☺💐रुका जीवन और रुका हुआ पानी दुर्गन्ध देता है"😊💐
हर दिन की तरह उस दिन भी मैं पार्क में टहल रही थी
टहलते -टहलते थक गयी थी ,सोचा पास के बेंच पर जाकर बैठ जाऊं , बैंच के पास एक बड़ा हरा-भरा पेड़ था अमरुद का उस पर कुछ अमरुद भी लगे हुए थे ,मन में उत्साह हुआ चलो एक अमरुद तोड़ती हूँ ,पर कैसे अमरुद तो बहुत ऊपर थे ,कुछ सोचा फिर पास में पड़ा पत्थर उठाया और अमरुद पर निशाना बनाया ,पर मेरा निशाना इतना अच्छा थोड़े था कि सीधे अमरुद पर लगता और अमरुद टूट कर नीचे गिर जाता मैंने फिर दूसरा पत्थर उठाया फिर निशाना साधा , अबकी बार मेरा निशाना चूका नहीं पर अमरुद नहीं गिरा ,वहीँ बेंच पर बैठी मेरी मित्र को जा लगा , वो चिल्लायी मैं तुमको अमरुद लगती हूँ क्या ?   मैंने कहा नहीं अमरुद तो बहुत छोटा है ,माना कि सख्त होगा पर ,—-तुम्हारी तरह नहीं —–
मेरी मित्र ने मेरी तरफ देखते हुए कहा क्या मतलब ? मैंने कहा बहन ये अमरुद तो एक दिन पेड़ पर लगे -लगे पक जायेगा ,,और नरम भी हो जायेगा पर तुम तो बहुत मजबूत हो 😊मेरी मित्र भड़की और बोली तुम कहना क्या चाहती हो  ? मैंने बोला देखो बुरा मत मानो ये जो तुम्हारा चेहरा है ना ये कभी ख…