संदेश

November, 2016 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

☺👌बचपन से अच्छा कुछ भी नहीं☺💐👌

सच में बचपन से अच्छा कुछ भी नहीं.......
बचपन, मदमस्त बचपन। ना चिन्ता ,न फ़िक्र,ना किसी का भय , अपनी ही दुनियाँ में मस्त ।
ईर्ष्या -द्वेष से परे जिन्दगी जहाँ जीने के लिए जिये जाती है,  उसे उसे बचपन कहते हैं ।बचपन में मानव के कँधों पर जिम्मेदारी का कोई बोझ नहीं होता ,कोई प्रतिस्पर्धा नहीं होती ।
बचपन की खट्टी-मीठी शरारतें ,दिल गदगद हो जाता है आज भी याद आता है, दिल कहता है फिर से बच्चा बन अपने बचपन में चले जायें ,लेकिन काश हमारे मन की हो पाती ,कोई बूढ़ा ही नहीं होता ,सब बच्चे ही रहते ।पर प्रकृति के नियम को हम बदल नहीं सकते ।
जिन्दगी की दौड़ में आगे बढ़ते -बढ़ते हमारा बचपन ,हमारी सादगी,मासूमियत सब खो जाती है,हम प्रतिस्पर्धा की दौड़ में कठोर हो जाते हैं ।
 याद आते है बचपन के वो दिन माँ कहती थी बेटा पड़ लो ,माँ के बार-बार कहने पर जब माँ फटकारती थी तो हम किताब लेकर बैठते थे ,हाथ में किताब तो होती थी ,नजरें इधर -उधर दिमाग सपनों की दुनियाँ में उड़ान भरने लगता । बड़े -बड़े सपने हवाई किले बनाना ।फिर अचानक से माँ की आवाज कानों में पड़ना बेटा पढ़ाई कर रहे हो ,हमरा भी ये कहना हाँ माँ पढाई हो रही है ,फिर ऐसा ज…

" आग और धुआँ "

💐 " आग और धुआँ "💐

मैं ज्योति उजाले के साथ आयी
सब और उजाला छा गया
मैं ज्योति जलती रही चहुँ और
उजाला ही उजाला  ........
सबकी आँखे चुंध्याने लगीं
जब आग थी ,तो उजाला भी था
उजाला की जगमगाहट भी थी
जगमगाहट में आकर्षण भी था
आकर्षण की कशिश मे, अँधेरे जो
गुमनाम थे  झरोंकों से झाँकते
धीमे -धीमे दस्तक दे रहे थे।

उजाले मे सब इस क़दर व्यस्त थे कि
ज्योति के उजाले का कारण किसी ने नहीं
जानना चाहा, तभी ज्योति की आह से निकला
दर्द सरेआम हो गया , आँखों से अश्रु बहने लगे
काले धुयें ने हवाओं में अपना घर कर लिया
जब तक उजाला था सब खुश थे ।

उजाले के दर्द को किसी ने नहीं जाना

जब दर्द धुआँ ,बनकर निकला तो सब
उसे कोसने लगे।

बताओ ये भी कोई बात हुई
जब तक हम जलते रहे सब खुश रहे ।
आज हमारी राख से धुआँ उठने लगा तो
सब हमें ही कोसने लगे ।

दिये तले अँधेरा किसी ने नहीं देखा
आग तो सबने देखी पर आग का की तड़प
उसका दर्द धुआँ बनकर उड़ा तो उसे  सबने कोसा
उसके दर्द को किसी ने नहीं जाना ।



"मेरा और मेरे मित्र का वार्तालाप "

"मेरा और मेरे मित्र का वार्तालाप"

कुछ लोग ऐसे होते हैं,जो बेवज़ह खुश रहने की वज़ह पूछते है।
एक बार मेरे एक मित्र मेरे घर आये और कहने लगे ,मित्र तुम यूँ ही बेवज़ह ना मुस्कराया करो ,नज़र लग जायेगी ।
मैं कुछ पल रुकी ,फिर बोली ठीक है ,मैं नहीं मुस्कराउंगी ,
पर क्या हर पल दुखी रहूँ । कुछ पुरानी बातों को याद कर रोती रहूँ ,ठीक है ना फिर नज़र नहीं लगेगी ज़माने की।

मेरे मित्र बोले नहीं यार क्या कहूँ, लोग कहते हैं ये जो तुम खुश रहते हो ना, इसका कारण है कि तुम्हारे पास कोई कमी नहीं है ।
मैंने कहा हाँ कोई कमी नहीं है । भगवान का दिया सब कुछ है ।
पर मेरे खुश होने की वज़ह सिर्फ पैसा ही है ,ये तुम सबकी ग़लतफ़हमी है ।
मेरे मित्र ने कहा हाँ यही तो मैं कहना चाहता हूँ ,कि लोग सोचते हैं कि तुम्हारे पास पैसा है इसी लिये तुम खुश रहते हो ,और पैसा तो आनी जानी चीज है ,आज है कल नहीं इसे अपने आने वाले कल के लिये सँभाल कर रखो।

अपने मित्र की बात सुनकर मैं थोड़ा मुस्करायी , फिर जोर -जोर कर हँसने लगी , मैंने कहा अरे तुम सब को कोई ग़लतफहमी हो गयी है। पैसे से तो सिर्फ सुख सुविधाये खरीदी जा सकती हैं ख़ुशी नहीं ,और स…