" नहीं सीखनी मुझे होशियारी "

 " नहीं सीखनी मुझे होशियारी"
**                **              **

दुनियाँ में जब आये थे
हम तो सीधे -साधे भोले भाले थे ।

अब दुनियाँ में रहकर जाने
क्या -क्या सीख गये अभी
भी दुनियाँ वाले कहते हैं
तुम तो कुछ जानते नहीं ।

हाँ नहीं जानना मुझे कुछ भी
दूनियाँ सब मूखोटे पहने हैं ।
चेहरे से भोले पर ,पेशे से लुटेरे हैं ।

नहीं सीखनी मुझे झूठ की बोली
नहीं जीतना किसी को फरेब से

मै अनाड़ी ही सही पर हूँ जीवन
का सच्चा खिलाड़ी , प्रेम की सीधी
पटरी पर ही चलती रहे अपनी गाड़ी।

मैं जैसा हूँ,मुझे रहना है वैसा ही
मैं अनाड़ी , मै भिखारी ,अपनी
सबसे यारी ।
नहीं सीखनी मुझे होशि यारी
किस काम की वो होशियारी
जिसमें अपनो के ही सीने
पर चलादें हम आरी ।
नहीं सीखनी मुझे होशियारी ।



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

" आत्म यात्रा "

*****उम्मीद की किरण*****

**औकात की बात मत करना **