संदेश

July, 2016 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

" भारत माता की जय "

"मेरा भारत महान"

     "माँ भारत माता की जय"
  सरल स्वभाव मीठी वाणी ,
आध्यमिकता के गूंजते शंख नाद यहाँ


अनेकता में एकता का प्रतीक मेरा भारत देश महान ,
विभिन्न रंगों के मोती हैं  ,फिर भी माला अपनी एक हैं


मेरे देश का अद्भुत वर्णन ,मेरी भारत माँ का मस्तक हिमालय के ताज से सुशोभित


सरिताओं में बहता अमृत यहाँ,
जड़ी -बूटियों संजिवनियों का आलय


प्रकृति के अद्भुत श्रृंगार से सुशोभित
मेरा भारत देश महान ,अपने देश की महिमा का क्या करूं व्याख्यान।


जी चाहे मैं हर जन्म में बन देश का रक्षा प्रहरी शीश पर शीश झुकाऊँ।


देश की खातिर प्राणों की बलि चढाऊँ, भारत माँ की शान में जो दुश्मनों की आँख भी उठ जाए।


तो उन्हें"   छटी का दूध" याद दिलाऊँ दुश्मन " दाँतों तले ऊँगली दबाएँ" " उल्टे पाँव घर लौट जाएँ "।


भारत माँ की आन में, भारत की शान बन जाऊँ
मैं अपनी मातृ भूमि भारत माँ का माँ जैसा ऊँचा सम्मान करूँ ।।


मैं भारत माँ का माँ के जैसा  सम्मान करूँ।
"भारत माँ की जय "   "मेरा भारत महान"।।

























"ये कौन चित्रकार है"

"  ये कौन चित्रकार है "

सच मे प्रकृति का चित्रकार स्वयं
कितना सुन्दर होगा ।जिसने प्रकृति को
इतना सुन्दर रूप दिया है ।

विशाल पर्वत,वृक्ष नादियाँ,झरने
अन ,जल,   पुष्प जड़ी -बूटियाँ
 और मौसम के विभिन्न अवतार
    सच में ये कौन चित्रकार है ,


ग्रीष्म की उषणता से राहत दिलाने आया है ,
 मौसम सावन का प्रकृति आनन्दित है ,
 प्रफुल्लित पुलकावली ,मेघ मल्हार गा रहे
 प्रकृति स्वयं अपना श्रृगार कर रही ।
 बादल भी आँख मीचौली कर रहे ,
धरती पर अपना बसेरा कर रहे
फिर फिर छम छमा छम बरस रहे

" पहचान मेरी "

"पहचान मेरी "

हाँ मैं यूँ ही इतराता हूँ ।
खुद पर नाज भी करता हूँ।

अपनी खेती मैं करता हूँ
शुभ संकल्पों के बीज मैं बोता हूँ ।

क्यों कहूँ मैं कुछ भी नहीं
मैं किसी से कमतर नहीं ।

मुझ से ना पूछो मेरी पहचान
मैं क्यों किसी के जैसा बनूँ ।

क्यों ना मैं जैसा स्वयं चाहता हूँ
    वैसा बनूँ।
मैं जैसा हूँ ,मैं वैसा ही हूँ ।

मैं तो बस अपने जैसा हूँ
नहीं मुझको करना है मेकअप।

नहीं बनना मुझे किसी के जैसा
मेरा अस्तित्व मेरी पहचान।

मेरे कर्म बने मेरी पहचान
मुझसे ना छीनो पहचान मेरी ।

कर्मो की खाद मे मैंने शुभ संकल्पों
      के बीज मैंने डालें है
आने वाले कल मैं जो खेती होगी
उससे समस्त वसुंधरा पोषित होगी
मेरी जीवन यात्रा तब स्वर्णिम होगी
    और मेरी पहचान पूरी होगी ।।।।।।।






**फरिश्ता ऐ आसमान **

धरती पर फरिश्ता ऐ ,  आसमान होते हैं।  माँ बाप तो दुआओं की खान होते है ।  जीवन के हर मोड़ पर  कवच की तरह माँ बाप  सुरक्षा की ढाल होते हैं।
हर दर्द की दवा होते हैं  फल फूलों से लदे वृक्ष और  ठण्डी छाँव होते हैं ।
अनकहे शब्दों की अरदास होते हैं।
माँ बाप के ना होने का दर्द, एक अनाथ बच्चे से पूछो, बेटा सुनने को जिसके कान तरसते हैं।।


** मेघ मल्हार **

"मेघ मल्हार "

मेघों ने मल्हार है गया
रिम-झिम,रिम-झिम वर्षा
से सिंचित हो गया प्रकृति
का श्रृंगार निराला ।
मौसम भी क्या खूब है ,आया

कभी धूप ,कभी छाया,तो
कभी पल भर मे छा जाते,
नील गगन में हर्षोल्लास
के बादल।

और भीग जाते पल भर मे
 वर्षा से सबके आँगन
वसुन्धरा हुयी प्रफुल्लित
वृक्षों पर नयी कोपलें पुलकित।

 फल फूलों से समृद्ध                              
 प्रकृति हो रही है हर्षित।

 वसुन्धरा पर समृद्ध हर कंधरा।
 मोर  मोरनी निर्त्य कर रहे
 पक्षी भी चहक लगे हैं अब तो
आओ हम सब मिल मंगल गान गायें
 गीत ख़ुशी के गुनगुनायें
 झुला झूलें ,नाचे गायें ।।