अमर प्रेम की पवित्र डोर

 रक्षा बंधन का पर्व ,
      भाई बहन का गर्व ,
 निश्छल पवित्र प्रेम का अमर रिश्ता
बहन भाई की कलाई में राखी.बांधते हुए कहती है, 
भाई ये जो राखी है ,ये कोई साधारण सूत्र नही ,
इस राखी में मैंने स्वच्छ पवित्र प्रेम के मोती पिरोये हैं ,
सुनहरी चमकीली इस रेशम की डोर में ,
भैया तुम्हारे  उज्जवल भविष्य की मंगल कामनाएं पिरोयी है ।
रोली ,चावल ,मीठा ,लड़कपन की वो शरारतें ,
हँसते खेलते बीतती थी दिन और रातें 
सबसे प्यारा सबसे मीठा तेरा मेरा रिश्ता 
भाई बहन के प्रेम का अमर रिश्ता कुछ खट्टा कुछ मीठा ,
सबसे अनमोल मेरा भैय्या,           
कभी तुम बन जाते हो मेरे सखा , 
और कभी बड़े  भैय्या ,  भैय्या मै जानती हूँ ,तुम बनते हो अनजान 
पर मेरे सुखी जीवन की हर पल करते हो प्रार्थना।
 भैय्या मै न चाहूँ ,तुम तो मुझको दो सोना ,चांदी ,और रुपया 
दिन रात तरक्की करे मेरा भैय्या ,
ऊँचाइयों के शिखर को छुए मेरा भैय्या 
रक्षा बंधन  की सुनहरी चमकीली राख़ियाँ 
सूरज ,चाँद सितारे भी मानो उतारें है आरतियाँ 
काश कभी हम भी किसी के भाई बने,    और कोई बहन हमें भी बांधे राखी 
 थोड़ा इतरा कर हम भी दिखाएँ कलाई देखो इन हाथों में भी है राखी

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

काश की वो वक्त वहीं थम जाता । हम बड़े न होते बच्चे ही रह जाते । पर क्या करें की प्रकर्ति का नियम है ,बचपन , जवानी बुढ़ापा , दुनियां यूं ही चलती रहती है । जिसने जन्म लिया है ,उसकी मृत्यु भी शास्वत सत्य है उससे मुँह नहीं मोड़ा जा सकता ये एक कड़वा सच है । हम बात कर रहे थे ,बचपन की , बचपन क्यों अच्छा लगता है । बचपन में हमें किसी से कोई वैर नहीं होता । बचपन का भोलापन ,सादगी ,हर रंग में रंग जाने की अदा भी क्या खूब होती है । मन में कोई द्वेष नहीं दो पल को लड़े रोये, फिर मस्त । कोई तेरा मेरा नहीं निष्पाप निर्द्वेष निष्कलंक मीठा प्यारा भोला बचपन । ना जाने हम क्यों बड़े हो गये , मन में कितने द्वेष पल गये बच्चे थे तो सच्चे थे , माना की अक्ल से कच्चे थे ,फिर भी बहुत ही अच्छे थे , भोलेपन से जीते थे फरेब न किसी से करते थे तितलियों संग बातें करते थे , चाँद सितारोँ में ऊँची उड़ाने भरते थे प्रेम की मीठी भाषा से सबको मोहित करते थे । बच्चे थे तो अच्छे थे । 

**औकात की बात मत करना **

*अन्नदाता *